सोच ही समाज है

  •  विचारधारा से चलने की राह देने वाले डॉक्टर बी आर अंबेडकर को हमारा शत शत नमन करते हैं शिक्षा का जो स्थान है वह हम बरकरार नहीं रख पाए है मैं आज भी कभी भी ऐसे गांव में जाता हूं कुछ ऐसे लोगों को देखता हूं जो आज भी शिक्षा से बहुत बारीकी से नहीं जुड़ पाए आज भी कुछ लोग वही समाज के हजारों वर्षों पुराने कामों में आज तक जुड़े रहते हैं हत्या हमें बदलना नहीं है हमें भी तो एक उनसे भी तो एक मौका चाहिए बदलने का कुछ ऐसे गांव को सुधारने का कुछ ऐसी अशिक्षित वर्ग आगे बढ़ने का हमारी भी तो एक जिम्मेदारी बनती है कि हम लोग हर शख्स को आगे ले आए जो हमारी वजह से या हमारी जो प्रॉब्लम है उसे फेस करने में बहुत परेशानी भुगत रहा है विचार विमर्श क्या सोचने से कुछ नहीं होता ह में कुछ नियम अपने आप बनाने होंगे तभी हम कुछ कर पाएंगे तभी हम कुछ बन पाएंगे हमारे नियम हमारे आदतों से दूर संचार के आते हैं हमारे शब्द विचार सभी के प्रकार समान होने चाहिए ना की एक और म्यूजिक होना चाहिए दूसरा रोचक होना चाहिए सब जगह या कहीं भी हमारे विचारों से हमारा प्रभुत्व बहुत अच्छा रहता है समाज की परिभाषा हर वह लोग हैं जो आज अच्छी पोजीशन पर जी रहे हैं जो आज कुछ करने की चाहत है मैं उन सभी लोगों का धन्यवाद करता हूं जिस समाज को अच्छा मार्गदर्शन देते हो कुछ ऐसे हमारे भी सोशल वर्कर है जो आज दुनिया के सामने बहुत मशहूर हो रहे हैं मैं उनको भी धन्यवाद करता हूं आप हर वह चीज को पाना चाहो जो आपको कामयाब बना सकती है आप दे अगर कोई अच्छी पोस्ट है तो हमारी वेबसाइट पर जरूर शेयर कीजिए. धन्यवाद.!

Author: One Dalit

OneDalit is organization in india to connecting Dalit people in the world.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *